अजीब शर्त: यहां महिला पुलिसकर्मियों का होता है वर्जिनिटी टेस्ट

दुनिया भर में महिलाओं को लेकर मानसिकता में भले ही बड़े बदलाव देखने को मिल रहे हों, लेकिन इंडोनेशिया में पुलिस ऑफिसर बनने का सपना देखने वाली महिलाओं को वर्जिनिटी टेस्ट से होकर गुजरना पड़ता है. यह टेस्ट रिक्रूटमेंट प्रोसेस का ही हिस्सा होता है. इसके अलावा इंडोनेशिया में पुलिसकर्मी बनने के लिए महिलाओं का खूबसूरत होना भी जरूरी है.

वर्जिनिटी टेस्ट जैसी रूढ़िवादी और महिलाविरोधी परंपराओं को खत्म करने के अंतरराष्ट्रीय दबाव के बावजूद इंडोनेशिया की पुलिस भर्ती में यह वर्जिनिटी टेस्ट जारी है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, महिला पुलिसकर्मियों के लिए कई शारीरिक मापदंडों पर भी खरे उतरना जरूरी है. इन महिला पुलिसकर्मियों को पब्लिक रिलेशन जैसे फील्ड में लगाया जाता है. 

आधिकारिक तौर पर, रिक्रूटमेंट प्रोसेस में वर्जिनिटी टेस्ट का कोई जिक्र नहीं मिलता है लेकिन देश भर में नैतिकता और फिजिकल एग्जामिनेशन के नाम पर यह टेस्ट किया जा रहा है.

ह्यूमन राइट्स वॉच के एंड्रियाज हार्सोनो ने कहा, इंडोनेशिया पुलिस की सोच है कि समाज ऐसी महिला पुलिस ऑफिसरों को स्वीकार नहीं करेगा जो सेक्सुअली ऐक्टिव हैं या फिर सेक्स वर्कर हैं.
इस वर्जिनिटी टेस्ट के पीछे अधिकारियों का तर्क है कि वे केवल ‘अच्छी लड़कियों’ की ही पुलिस में भर्ती करना चाहते हैं. 

यह वर्जिनिटी टेस्ट ‘टू फिंगर वे’ से किया जाता है. 

इंडोनिशया की जाकिया ने ह्यूमन राइट्स वॉच को बताया, पिछले साल जब उन्होंने पुलिस ऑफिसर की पोस्ट के लिए आवेदन किया तो वह इस टेस्ट में फेल हो गई. उन्होंने कहा, जब भी मैं याद करती हूं कि क्या हुआ था तो मुझे रोना आ जाता है, मेरी जीने की इच्छा ही खत्म हो जाती है.

जाकिया मार्शल आर्ट एथलीट हैं. जाकिया ने बताया कि पिछले कुछ सालों में उन्होंने बहुत सी एक्सरसाइज की हैं जिससे उनका हाइमन टूट गया होगा.

जाकिया ने बताया, एक बार मैं गिर गई थी और मुझे प्राइवेट पार्ट में बहुत दर्द हुआ. मेरी मां ने समझाया कि इस बारे में परेशान ना हो लेकिन जब इंटरव्यू में मैंने पुलिस ऑफिसरों को ये बात बताई तो इंटरव्यू वहीं खत्म हो गया.

जाकिया ने पुलिस अधिकारियों से कई बार जोर देकर कहा कि वह वर्जिन है लेकिन उसे दूसरे राउंड में भाग लेने का मौका नहीं मिला.

इंडोनेशिया में आधिकारिक तौर पर वर्जिनिटी टेस्ट की अनुमति नहीं है लेकिन ऑकलैंड यूनिवर्सिटी की स्टडी में खुलासा हुआ कि पुलिस भर्ती में वर्जिनिटी टेस्ट खत्म नहीं हुआ है.

27 वर्षीय पुलिसकर्मी अनीशा वर्जिनिटी टेस्ट जारी रखने के पक्ष में हैं. वह कहती हैं, यह टेस्ट दिखाता है कि हम महिलाएं खुद की सुरक्षा करने में सक्षम हैं और इसलिए हम दूसरों की भी सुरक्षा कर सकते हैं.

हार्सोनो का दावा है कि इंडोनेशिया मिलिट्री में भी यह प्रैक्टिस जारी है जहां टेस्ट करने वाले 70 फीसदी मेडिकल स्टाफ पुरुष है.

हार्सोनो ने इस टेस्ट के पीछे दकियानूसी मानसिकता और कुतर्कों के बारे में बताया, ‘कई मिलिट्री जनरल का मानना है कि हाइमन एक घड़ी की तरह है. अगर हाइमन 11.00 बजे से 2 बजे के बीच टूटती है तो फिजिकल ऐक्टिविटी की वजह से लेकिन अगर हाइमन 6 बजे के बाद टूटती है तो इसका मतलब है कि महिला सेक्सुअल लाइफ में ऐक्टिव है.’

loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com