अब बड़े घर के खरीदारों को भी मिलेगी ब्याज पर सब्सिडी, PMAY में कार्पेट एरिया 33% बढ़ाने की मिली मंजूरी

घर खरीदारों के लिए सरकार ने बड़ी राहत दी है। मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत ब्याज सब्सिडी और कार्पेट एरिया बढ़ा दिया है। सरकार ने 33 फीसद कार्पेट एरिया बढ़ाने की मंजूरी दे दी है।

इस फैसले से अब बड़े घरों के लिए मिलने वाले होम लोन के ब्याज पर भी लोगों को सब्सिडी का लाभ मिल सकेगा। आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय ने बताया कि मध्यम आय समूह-1 (एमआईजी-1) के लिए घर का कार्पेट एरिया 120 स्क्वायर मीटर से बढ़ाकर 160 स्क्वायर मीटर कर दिया गया है वहीं, एमआईजी-II के लिए इसे 150 स्क्वायर मीटर से बढ़ाकर 200 स्क्वायर मीटर कर दिया है।

एक जनवरी, 2017 से नये नियम प्रभावी हो चुके हैं। यह वह तारीख है जिस दिन से योजना का परिचालन शुरू हुआ था। यह बात मंत्रालय ने विज्ञप्ति में कही है। क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम (सीएलएसएस) के तहत प्रत्येक लाभार्थी योजना के तहत खरीदे गये घर पर 2.35 लाख रुपये की सब्सिडी प्राप्त कर सकता है।

एमआईजी-I के अंतर्गत जिन लोगों की सालाना आय छह लाख से 12 लाख के बीच है वे 9 लाख रुपये तक के लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। जबकि जिन लोगों की सालाना आय 12 लाख से 18 लाख रुपये के बीच है उन्हें 12 लाख रुपये तक के लोन के लिए तीन फीसद ब्याज सब्सिडी मिलती है।

मंत्रालय ने बताया, “11 जून तक एमआईजी श्रेणी के 35204 लाभार्थियों को 736 करोड़ रुपये की राशि दी जा चुकी है। एमआईजी श्रेणी के लिए कार्पेट एरिया बढ़ाने का फैसला विभिन्न शेयरधारकों से मिली सिफारिशों के बाद किया गया है।”

क्या होता है कार्पेट एरिया

कार्पेट एरिया उस एरिया को कहते है जहां आप कार्पेट बिछा सकें। इस एरिया में फ्लैट की दीवारें शामिल नहीं होती हैं। यह फ्लैट के अंदर का खाली स्थान होता है। यह फ्लैट का इस्तेमाल होने वाला वास्तविक क्षेत्र होता है। कार्पेट एरिया में दीवार की मोटाई, बालकनी और छत शामिल नहीं होती है। अगर सीढ़ियां घर के अंदर है तो इन एरिया में वो भी शामिल होंगी। जानकारी के लिए बता दें कि कार्पेट एरिया बिल्ट अप एरिया का 70 फीसद होता है। इसे कैलकुलेट करने के लिए अपार्टमेंट के कुल एरिया में से दीवार की आंतरिक मोटाई को घटा दें।

loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com