आखिर क्यों इस शख्स के कृत्रिम प्राइवेट पार्ट की दीवानी हैं महिलायें, फ्री में दे रहीं सेक्स ऑफर 

हिन्द न्यूज़ डेस्क| 6 साल की उम्र में एक आदमी ने आपना प्राइवेट पार्ट खो दिया था और अब वो 44 साल का है. अब जा कर उस व्यक्ति ने 2012 में आर्टिफिसियल सेक्स ऑर्गन लगवाया है, अबउनके अन्दर ना जाने ऐसा कौन सा आकर्षण आ गया है की हर महिला फ्री में ही उनके साथ सेक्स करने को बेकरार है. जानें पूरा मामला.

क्या किराए का बॉयफ्रेंड बनने को तैयार हैं, ऐसी सी 6 शानदार नौकरियों को आपका इन्तजार है

समाज में शारीरिक विकृति के बाद अंग प्रत्यारोपण व लिंग परिवर्तन करवाने की खबरें रोज देखने व सुनने को मिलती है। जिस व्यक्ति का कोई शरीर का अंग खो जाता है तो उसके बाद उनकी स्थिति एक लंगडे घोड़े की सी हो जाती है लेकिन ऐसे में इस शक्स के कृत्रिम प्राइवेट पार्ट (artificial part) लगवाने के बाद कई महिलाओं द्वारा शारिरीक संबंध बनाने की पेशकश की गई।

इस आदमी का नाम मोहम्मद अबद है। इन्होनें 6 साल की उम्र में एक भयंकर दुर्घटना में अपना प्राइवेट पार्ट खो दिया था। डॉक्टरों ने सर्जरी करके स्किन और उनके हाथ के टेंडॉन्स (एक लचीली कॉर्ड) के जरिए कृत्रिम लिंग (artificial part) लगवाया था।
44 साल के अबद ने एक समाचार पत्र को बताया कि जब से उनके कृत्रिम अंग लगने की बात मीडिया में फैली है तब से उनके साथ संबंध बनाने के लिए लगातार महिलाओं के ऑफर आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि ऑनलाइन बहुत सी महिलाओं ने मुझसे पूछा कि क्या मैं उनके साथ शारीरिक संबंध बनाउंगा। लेकिन मौ. अदब का कहना है कि मैं उनकी यह ख्‍वाहिश पूरी नहीं कर सकता, क्‍योंकि मैंं थक जाता हूं। मैं रोज 14 घंटे की काम करता हूं इसके बाद मुझमें इतनी ताकत नहीं रह जाती कि मैं शारीरिक संबंध बनाने की सोचूं।
इसी बीच 35 साल की रोज नाम की महिला जो दो बच्चों की मां है, उसने अबद को फ्री में सेक्स करने का आॅफर कर दिया। चैनल 4 पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रम ‘लव फॉर सेल’ में दिखाई दे चुकी है रोज अपने एक घंटे की सेक्स सर्विस के लिए 200 पाउंड चार्ज करती है। रोज को जब अबद कृत्रिम अंग के बारे में जानकारी मीडिया से से प्राप्‍त हुई।  गौरतलब है कि हडर्सफील्ड में 1978 में हुई एक दुर्घटना में अबद ने अपना प्राइवेट पार्ट खो दिया था। उस समय वह छह साल के थे। अबद ने 2012 में सर्जरी करवाकर 8 इंच के बॉयोनिक प्राइवेट पार्ट (artificial part) लगवाया था।
loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com