इन्फेक्शन से बचाना है प्राइवेट पार्ट्स, तो न करें ये गलतियां

हिन्द न्यूज़ डेस्क| आजकल हर महिला अपनी सुन्दरता और प्राइवेट पार्ट्स की देख रेख को लेकर बहुत जागरूक है, पर क्या आपको पता है की प्राइवेट पार्ट्स का ध्यान रखने में आपसे हर रोज़ कितनी बड़ी गलती हो रही है, जो आपको इन्फेक्शन ग्रसित भी बना सकता है. नए स्टाइल के आतंरिक कपडे उनका उपयोग और लिकुइड्स का उपयोग पार्ट्स को साफ रखने के लिए, कहीं ये सब आपको किसी बड़े इन्फेक्शन का शिकार तो नहीं बना रहे.इसलिए वेजाइना को स्वस्थ रखने के लिए कुछ बातों का ख्याल रखना बहुत ही आवश्यक है.

आपको भी है कैंसर… तो साइकिलिंग देगी जीवनदान, जाने कैसे!

कॉटन पैंटी है परफेक्ट अच्छे और सुंदर आंतरिक वस्त्र (सिंथेटिक पेंटी) आपको देखने में भी और महसूस करने में भी अच्छा फील करवा सकती हैं. लेकिन स्वास्थ्य विशेषज्ञ केवल उन्हें विशेष तारीखों और बेडरूम के अंदर ही इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं. नियमित उपयोग के लिए, कॉटन पैंटी की सलाह दी जाती है. सिंथेटिक चीजे निजी स्थानों में नमी को लॉक कर सकती है और इससे संक्रमण भी हो सकता है.

मां ने हिचकिचाहट में आपको आजतक नहीं बताई, जानें ऐसी कौन सी बातें हैं

गलत साइज की पैंटी समस्या केवल फैंसी अंडरवियर की सामग्री के साथ ही नहीं है बल्कि उसके आकार से भी नुकसान हो सकता है. ये आकार त्वचा और कपड़े के बीच खिचांव को बढ़ाते हैं और यह निजी स्थानों के आसपास त्वचा टैग पैदा कर सकता है.

मोबाइल का खतरनाक इस्तेमाल, आपको बना न दे ज़िन्दगी भर के लिए पीड़ित

प्यूबिक हेयर को हटाना निजी स्थानों के बाल शेविंग एक और आदत है जो स्वस्थ वर्धक नहीं है, हालांकि आजकल यह एक आम बात हो गई है. उस जगह के बाल संरक्षण की एक परत की तरह काम करते हैं यह उसे खिचांव को कम कर सकता है और संक्रमण के जोखिम को भी कम कर सकता है. यदि आप वहां के बाल शेव करते हैं, तो उसके आसपास की त्वचा अधिक कमजोर हो जाती है. एमआरएसए और स्ट्रेक्टोकोकस जैसे संक्रमण उन महिलाओं में आम हैं, जिनको बालों को शेव करने की आदत होती है.

अब टूथ-पेस्ट की मदद से करिए प्रेग्नेंसी टेस्ट, जानिए कैसे

लिक्विड के जरिए सफाई लिक्विड के जरिए सफाई भी उन आदतों में से एक है जो निजी स्थान के लिए अच्छी नहीं हैं. इस तरह की सफाई में निजी भागों के अंदर तरल पदार्थ डाला जाता है. जो वास्तव में बैक्टीरिया के प्राकृतिक संतुलन को परेशान करता है और इससे संक्रमण हो सकता है.

 

loading...
error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com