औद्योगिक नगरी के सभी उद्योगों को एक जिला एक उत्पाद योजना से जोड़ा जा रहा है

शहर के होजरी से जुड़े उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश सरकार ने कदम बढ़ाए हैं। एक जिला एक उत्पाद योजना (ओडीओपी) में शहर से चमड़ा उत्पादों को शामिल करने के बाद प्रदेश सरकार अब होजरी की ब्रांडिंग भी करेगी। प्रदेश के लघु उद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी ने इस संबंध में विभाग को निर्देश दिए हैं। उद्योग विभाग ने इसके लिए खाका खींचना शुरू कर दिया है। होजरी उद्यमियों से वार्ता कर उनकी समस्याओं का समाधान कराया जाएगा, वहीं उनके उत्पादों की ब्रांडिंग के लिए हर संभव कदम उठाए जाएंगे। औद्योगिक नगरी के नाम से मशहूर शहर के सभी उद्योगों को एक जिला एक उत्पाद योजना से जोड़ा जाएगा।

उद्यमियों की समिट कराने पर विचार

कुछ दिनों पहले ओडीओपी समिट में प्रदेश के हर जिले से चमड़ा उद्यमियों को बुलाकर प्रोत्साहित किया गया। इनमें कई ऐसे उद्यमी शामिल रहे जिन्होंने नए उद्यम स्थापित किए और तमाम ऐसे थे जिन्होंने उद्योग विभाग से लोन लेकर काम शुरू किया। इसी तरह होजरी से जुड़े उद्यमियों की समिट कराने को लेकर प्रदेश सरकार विचार कर रही है।

शहर का होजरी उद्योग

-कुल कारोबार : एक हजार करोड़ रुपये

जुड़े उद्यमी : करीब सौ

-कपड़ा बनाने वाली : करीब सौ इकाइयां

उत्पाद फिनिशिंग : 300-400 इकाइयां

-जॉब वर्क यूनिट : 1000-1200

इनका कहना है

-फेडरेशन ऑफ होजरी मैन्यूफेक्चर्स एसोसिएशन के ज्वाइंट सेक्रेटरी बलराम नरुला का कहना है कि प्रदेश सरकार का यह कदम स्वागत योग्य है। निश्चित रूप से उद्यमियों को इससे लाभ होगा। हालांकि होजरी क्लस्टर बनाए जाने की भी कोशिश होनी चाहिए।

-लघु उद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी कहते हैं शहर में चमड़े के बाद होजरी उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए विभाग को निर्देशित कर दिया है। जल्द ही शहर के हर उत्पाद को ओडीओपी योजना में शामिल करेंगे।

loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com