करे कोई एक, भरे हर कोई

हिन्द न्यूज डेस्क। विधानसभा चुनाव के मद्दे नजर चुनाव आयोग का डंडा अब हर पार्टी पर चल गया. चुनाव आयोग ने सभी राजनीतिक दलों को नोटिस जारी की. चुनाव आयोग ने कहा कि जातीय, भाषा और धर्म के आधार  पर कोई पार्टी चुनाव प्रचार नहीं करेगी. चुनाव आयोग का यह नोटिस साक्षी महाराज के विवादित बयान देने के बाद सभी दलों को नोटिस जारी किया गया.

यह भी पढ़े- साक्षी महाराज को मिला कराण बताओ नोटिस, EC हुआ सख्त

bidhan-sabha-chunaw-2017-765x510

चुनावों के दंगल के शुरू होते ही चुनाव आयोग ने चेताया है कि धार्मिक और जातीय आधार पर वोट मांगने वाले नेताओं और राजनीतिक दलों की खैर नहीं. साक्षी महाराज को नोटिस जारी करने के बाद आयोग ने सभी दलों को चिट्ठी लिखी है.

यह भी पढ़े- सुप्रीम कोर्ट की केंद्र सरकार को फटकार, नहीं दे पाए कोई जवाब

आयोग ने कड़े शब्दों में कहा कि धार्मिक स्थलों पर चुनाव प्रचार करना, जातीय या धार्मिक मान्यताओं की दुहाई देकर वोट मांगना आचार संहिता का उल्लंघन है, लिहाज़ा पार्टियां अपने सभी नेताओं को इस बारे में सूचित कर दें. अपने निर्देश में आयोग ने सुप्रीम कोर्ट के हाल में आये फैसले का हवाला भी दिया है.

यह भी पढ़े- 24 घंटे में अखिलेश-राहुल को पछाड़ दिया इस गुमनाम ‘सेलेब्रिटी’ ने…

चुनाव आयोग ने साक्षी महाराज को इसी बाबत नोटिस जारी कर 11 जनवरी तक जवाब तलब किया है, आयोग के सूत्रों के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट के फैसले के साथ इस निर्देश की प्रति चुनाव वाले पांचों राज्यों में ज़िला स्तर के सभी चुनाव अधिकारियों को भेजी गई है, साथ ही में तमाम बारीकियों के साथ आयोग के निर्देश भी भेजे गए है.

गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान आयोग ने आचार संहिता का खुला उल्लंघन करते हुए धार्मिक आधार पर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में दोषी मानते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और समाजवादी पार्टी के नेता आज़म खान को चुनाव प्रचार करने से रोक दिया था, इस बार भी चुनाव आयोग के तेवर कड़े हैं और इरादा साफ़ कि नेताओं की लापरवाही को माफ नहीं किया जायेगा.

loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com