गंगा के सात घाटों पर जल भर सकेंगे कांवरिये

सावन में गंगा के सात घाटों पर कांवरिये जल भर सकेंगे। घाटों पर श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी न हो, इसके लिए जरूरी इंतजाम किए जा रहे हैं। संगम और गंगा के दूसरे घाट से लेकर हाईवे तक सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम के लिए योजना बनाई जा रही है। राष्ट्रीय राजमार्ग दो को वन-वे किया जाएगा, ताकि जल लेकर वाराणसी जाने वालों को कोई दिक्कत न हो। सुरक्षा और यातायात व्यवस्था को लेकर दूसरे जिले से भी फोर्स मांगी गई है। 

जल भरने के लिए श्रृंगवेरपुर, फाफामऊ, दशाश्वमेध, काली सड़क, रामघाट, संगम नोज और अरैल घाट पर व्यवस्था बनाई जा रही है। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए बैरीकेडिंग की जाएगी और नाव पर गोताखोरों के साथ जल पुलिस के जवान तैनात रहेंगे। कांवरियों की सबसे अधिक भीड़ दशाश्वमेध घाट पर होती है। ऐसे में यहां सात मोटर बोट और सात चप्पू नाव लगाई जाएगी। संगम पर दो और बाकी घाटों पर भी एक-एक मोटर बोट रहेगी, ताकि किसी तरह की स्थिति उत्पन्न होने पर उसे तुरंत संभाला जा सके। प्रभारी जल पुलिस कड़ेदीन यादव का कहना है कि 17 जुलाई से कांवरियों के जल भरने का सिलसिला शुरू हो जाएगा, लेकिन उससे पहले सभी व्यवस्था कर ली जाएगी। जल पुलिस के जवानों के अलावा एक कंपनी पीएसी, एक प्लाटून बाढ़ राहत पीएसी, प्राइवेट और प्रशिक्षित गोताखोर तैनात किए जाएंगे। वहीं, शास्त्री ब्रिज से लेकर हंडिया तक ट्रैफिक व्यवस्था दुरुस्त रहेगी। एसपी गंगापार एनके सिंह का कहना है कि प्रयागराज-वाराणसी हाईवे को वन किया जाएगा। कांवरिये बायीं लेन पर चल सकेंगे। बड़े वाहनों के प्रवेश पर प्रतिबंध रहेगा। ठहराव व भंडारा वाले स्थानों को चिंहित कर वहां सभी तरह के इंतजाम किए जा रहे हैं।

loading...
error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com