भगवान अयप्पा के दर्शन नहीं कर पाईं महिलाएं, देखिए कैसे उग्र थे प्रदर्शनकारी

महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में सुप्रीम कोर्ट की इजाजत मिलने के बाद भी हालात नहीं सुधरे हैं. मंदिर में प्रदर्शनकारी शुक्रवार को भी ‘प्रतिबंधित’ आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में नहीं घुसने दे रहे हैं.

इस बीच, एक महिला पत्रकार समेत दो महिलाओं के एंट्री पॉइंट पर पहुंचने के बाद स्थिति तनावपूर्ण हो गई है. पुलिस सुरक्षा के साथ मंदिर तक पहुंचीं दोनों महिलाओं को वापस लौटना पड़ा. केरल के आईजी ने कहा कि महिलाओं को पहले ही वहां के हालात से अवगत कराया था और बताया था कि वहां स्थिति तनावपूर्ण हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं को जाने की इजाजत दे दी है

Photos from Sabarimala Temple

एक विदेशी मीडिया संस्थान के लिए काम करने वाली हैदराबाद की महिला पत्रकार के मंदिर में दर्शन करने में विफल रहने के एक दिन बाद शुक्रवार को एक अन्य महिला ने चढ़ाई शुरू की थी. वहीं, लगातार बढ़ते बवाल को देखते हुए राज्य प्रशासन प्रदर्शनकारियों से शांति की अपील कर रहा है. 

हैदराबाद की महिला पत्रकार के मंदिर में दर्शन करने में विफल रही

Photos from Sabarimala Temple

करीब 250 पुलिस जवान दोनों महिलाओं को अपनी सुरक्षा में लेकर मंदिर की ओर बढ़े थे. प्रशासन ने गुरुवार (18 अक्टूबर) से ही इलावुंगल और सन्नीदानम में कर्फ्यू लगा दिया, जो शुक्रवार यानि आज तक लागू रहेगा. पठानमथिट्टा जिला कलेक्टर पीबी नूह ने कहा कि प्रशासन द्वारा सबरीमाला आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा सुनिश्चित की जाएगी. 

इलावुंगल और सन्नीदानम में कर्फ्यू

Photos from Sabarimala Temple

इससे पहले गुरुवार (18 अक्टूबर) को एक महिला पत्रकार को उस वक्त मंदिर में जाने से रोका था, जब वो अपने एक पुरिष सहयोगी के साथ पंबा से दो घंटे की पैदल यात्रा तय कर सबरीमाला जा रही थीं. पुलिस सुरक्षा होने के बाद भी महिलाओं के मंदिर में प्रवेश करने के विरोध में खड़े लोगों के सामने महिला पत्रकार को अपने कदम वापस लेने पड़े. 

मंदिर में प्रवेश करने के विरोध में खड़े लोग

Photos from Sabarimala Temple

बता दें कि केरल के प्रख्यात सबरीमाला मंदिर में सुप्रीम कोर्ट द्वारा महिलाओं को प्रवेश की अनुमति देने के बाद पहली बार बुधवार को मंदिर के कपाट खोले गए. मंदिर के कपाट खोलने से पहले और बाद में काफी हंगामा हुआ. सैंकड़ों की संख्या में मंदिर में प्रवेश करने की कोशिश की और वहां मौजूद कुछ लोगों ने उन्हें रोकने की कोशिश की. इस दौरान काफी मारपीट और हिंसा भी हुई. 

बुधवार को मंदिर के कपाट खोले गए

श्रद्धालुओं की दलील है कि मंदिर में महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दिए जाने से भगवान का ब्रह्मचर्य भंग होगा. यही वजह है कि वे 10 साल की उम्र से लेकर 50 साल तक की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश का विरोध कर रहे हैं.

महिलाओं के मंदिर में प्रवेश का विरोध

Photos from Sabarimala Temple

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने मंदिर में प्रवेश से श्रद्धालुओं को रोकने की कोशिश करने वालों को कड़ी चेतावनी दी है. उन्होंने कहा, ‘हम सभी की सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे. किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी. मेरी सरकार सबरीमाला के नाम पर कोई हिंसा नहीं होने देगी.’ 

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन की विरोध करने वालों को कड़ी चेतावनी

Photos from Sabarimala Temple

मुख्यमंत्री ने कहा,‘श्रद्धालुओं को सबरीमला जाने से रोकने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.’ उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार की मांग नहीं करने के सरकार के फैसले पर फिर से विचार किये जाने की संभावना खारिज कर दी. विजयन ने कहा,‘हम सुप्रीम कोर्ट के कहे का पालन करेंगे.’

loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com