भारत की हार का सारा बोझ धौनी की कंधों में, निराश फैंस सोशल मीडिया में निकाला गुस्सा

हिन्द न्यूज़ डेस्क| भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी टीम के लिए फिनिशर के रूप में जाने जाते रहे हैं. धोनी ने कई बार टीम को अपने दम पर मैच जिताने का काम किया है, लेकिन पिछले कुछ समय से धोनी ऐसा करने में असफल हो रहे हैं. धोनी के फैंस उनके खेलने के इस नए तरीके से ज्यादा खुश नजर नहीं आ रहे. बल्लेबाजी के दौरान पिच को समझने के लिए धोनी समय जरूर ले रहे हैं, लेकिन वो इसका उपयोग पहले की तरह नहीं कर पा रहे हैं. धोनी अंतिम के ओवरों में आक्रमक बल्लेबाजी कर टीम को हमेशा बड़े स्कोर की तरफ अग्रसर करने का काम किया है.

आज भी धोनी जब बल्लेबाजी कर रहे होते हैं तो टीम और फैंस के दिल में जीत की उम्मीदें बनी रहती है. भारतीय टीम की कप्तानी पद से धोनी को हटाने की एक वजह उनकी बल्लेबाजी भी थी. टीम के चयनकर्ताओं का मानना था कि धोनी कप्तानी के प्रेशर की वजह से अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पा रहे हैं. धोनी की जगह टीम की कमान युवा विराट कोहली को दी गई, फैंस को उम्मीद थी कि शायद अब धोनी के बल्लेबाजी ऑर्डर में बदलाव हो, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

IPL-2018: चेन्नई सुपर किंग्स की कप्तानी धोनी के हाथ, साथ खेलने के लिए रोमांचित हैं वॉटसन

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चौथे वनडे में भारतीय टीम ठोस शुरुआत के बावजूद भी बड़े स्कोर तक नहीं पहुंच पाई और मैच हार गई. शिखर धवन और विराट कोहली ने जिस तरह की शुरुआत टीम को दी थी, उससे अंदाजा लगाया जा रहा था कि टीम 350 के करीब आसानी से पहुंच जाएगी. धवन और विराट के आउट होते ही बाकी बल्लेबाज भी लगातार आउट होते गए और टीम का स्कोर महज 289 रनों तक ही आकर ठहर गया.

धोनी ने अंतिम तक बल्लेबाजी जरूर की, लेकिन इस दौरान वह तेज गति से रन बनाने की बजाय विकेट बचाते हुए नजर आए. धोनी ने 43 गेंदों में 42 रन बनाए, जिसमें उन्होंने तीन चौके और एक छक्का लगाया. धोनी की धीमी पारी को देखने के बाद क्रिकेट फैंस चौथे वनडे में मिली हार का जिम्मेदार माही को मान रहे है. धोनी की तुलना 5 गेंदों में 23 रन बनाने वाले दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी एंडिले फेलुकवायो से कर उनका मजाक उड़ाया जा रहा है.

जीत के जश्न में डूबी साउथ अफ्रीका की टीम को भारी पड़ गया ICC का जुर्माना

loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com