लखनऊ में पानी और सीवर का बजट आज, उठ सकता है दूषित जलापूर्ति का मुददा

रविवार को शहर की जलापूर्ति और सीवर सफाई का बजट नगर निगम सदन में पेश होगा। सदन की कार्यवाही दोपहर बारह बजे से शुरू होगी। हालांकि, पानी और सीवर कर में किसी वृद्धि का प्रस्ताव नहीं है। जलकल विभाग ने अपने चालू वित्तीय वर्ष के बजट में किसी कर में वृद्धि न करने का प्रस्ताव नहीं तैयार किया है।

जलकल विभाग ने वर्ष 2001 के बाद जलमूल्य के टैरिफ में कोई वृद्धि नहीं की है। पिछले चार साल पहले जलमूल्य में वृद्धि का प्रस्ताव नगर निगम सदन में लाया गया था, लेकिन पार्षदों के विरोध के चलते उसे लागू नहीं किया जा सका था। अभी तक जलकल का बजट भी नगर निगम के बजट के साथ ही पास हो जाता था, लेकिन मेयर ने जलकल का बजट अलग से पेश करने के निर्देश दिए थे।

दूषित जलापूर्ति और सीवर बहने का मामला उठ सकता है

सदन में कल पेयजल संकट, दूषित जलापूर्ति और सीवर लाइनों के चोक होने का मामला उठ सकता है। शहर के कई इलाकों में दूषित जलापूर्ति हो रही है और कोई सुनवाई न होने की शिकायतें पार्षद करते रहते हैं। सीवर लाइनें भी चोक हैं और सड़क पर गंदगी बहती रहती है। कांग्रेस पार्षद गिरीश मिश्र का कहना है कि शहर भर में जलापूर्ति पटरी से उतर गई है। कहीं पानी नहीं आता है तो कहीं दूषित जलापूर्ति हो रही है। सदन में इन मुद्दों पर ही चर्चा होगा। सपा पार्षद दल के नेता सैय्यद यावर हुसैन रेशू का कहना है कि सालों से नई सीवर लाइन की योजना पुराने मोहल्लों में नहीं बनाई गई है, लिहाजा हर कोई सीवर समस्या से परेशान है। पेयजल आपूर्ति भी संतोषजनक नहीं है। इन मुद्दों पर जलकल के अभियंताओं से जवाब मांगा जाएगा।

loading...
error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com