लॉटरी खुलने का इस लड़के ने निकाला अनोखा फार्मूला, हर बार होगी जीत

पैसे कमाने की चाहत हर किसी को होती है. ऐसे में अगर किसी की लॉटरी खुल जाये तो वो ख़ुशी से झूम उठता है. लेकिन ये भी किस्मत की बात होती है. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने लॉटरी जीतने के लिए अपना अलग ही अनोखा फार्मूला निकाला हैं और उसकी मदद से वह कुल 14 बार लॉटरी जीत चुका हैं। इससे आप भी लौटरी जीत सकते हैं. जानते हैं उसके बारे में. 

दरअसल, रोमानिया के रहने वाले अर्थशास्त्री स्टीफन मैंडल इतने गरीब थे कि उसके पास मूलभूत जरूरतों को पूरा करने के लिए भी पैसे नहीं थे। सालों की कड़ी मेहनत के बाद मैंडल ने एक फॉर्मूला तैयार किया जिसके आधार पर एक या दो नहीं बल्कि कुल 14 बार उनकी लॉटरी लगी। कॉम्बिनेटोरियल कंडेनसेशन के जरिए उन्होंने फॉर्मूला बनाया था। इस फॉर्मूले के आधार पर जितने भी संभावित कॉम्बिनेशन बनते थे वे उन सभी नंबरों के टिकट्स खरीद लेते थे। इतना ही नहीं, स्टीफन ने इस बात की भी गणना कर ली थी जिन नंबरों के टिकट की लॉटरी लगने की संभावना बन रही थी.

उन सभी को खरीद लेने का बाद जो कुल खर्च आएगा वह लॉटरी लगने पर मिलने वाली ईनाम राशि से काफी कम होगा। लिहाजा, वह सभी संभावित नंबरों के टिकट खरीद लेते थे। दोस्तों के साथ मिलकर स्टीफन ने बड़ी तादाद में लॉटरी के टिकट्स खरीदें। उन्होंने 12 लाख रुपये से ज्यादा की लॉटरी जीत ली। दोस्तों के पैसे लौटाने के बाद भी उनके पास दो लाख से ज्यादा रुपये बचे। इसके बाद वह रोमानिया छोड़ ऑस्ट्रेलिया शिफ्ट हो गए और कंपनी खोल ली।

स्टीफन की कंपनी में 16 कर्मचारी थे और 30 कंप्यूटर की मदद से हर एक कॉम्बिनेशन नंबर का अध्ययन किया जाता था। जब अधिकारियों को स्टीफन की चालबाजी के बारे में पता चला तो उन्होंने खेल के नियम बदल दिए। भारी तादाद में टिकट खरीदने पर भी बैन लगा दिया।

उदाहरण के तौर पर, अगर खेल में 1 से 40 तक छह अंकों की लॉटरी तय की गई तो करीब 3,838,380 ऐसे नंबर कॉम्बिनेशन निकल जाएंगे जिनमें से किसी एक की लॉटरी पक्की हो। अब अगर 82 करोड़ रुपये का ईनाम तय किया गया हो और एक लॉटरी 82 रुपये में बिक रहा हो, तो भी जिन नंबरों की लॉटरी के लगने की सबसे ज्यादा संभावना हो, उन सभी को खरीदने में जितने पैसे खर्च होंगे, उससे कहीं ज्यादा पैसे जैकपॉट की राशि मिलते ही नसीब हो जाएंगे।

loading...
error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com