विरोध के बाद इंडियन गल्र्स कॉलेज की व्यवस्था में सुधार

सोमवार को इंडियन गल्र्स इंटर कॉलेज की छात्राओं, शिक्षिकाओं और अभिभावकों ने सड़क पर चक्काजाम किया था। उसका असर हुआ और मंगलवार से व्यवस्था में सुधार होना लगा। वहीं इस मामले में शिक्षिकाओं को मोहरा बनाने की चर्चा पर शिक्षक संघ ने आंदोलन की चेतावनी दी है।

इंडियन गल्र्स इंटर कॉलेज में पेयजल, पंखों की खराबी, सफाई समेत तमाम बदइंतजामी से नाराज छात्राओं ने सोमवार दोपहर सड़क पर जाम लगाकर विरोध जताया था। तब उनके परिजन भी जुट गए थे। प्रधानाचार्य और प्रबंधक पर छात्राओं ने आरोप लगाया था। डीआइओएस द्वितीय देवी सहाय तिवारी ने मौके पर आकर व्यवस्था सुधारने के निर्देश दिए थे। कॉलेज प्रशासन व्यवस्था सुधारने के लिए सक्रिय हुआ। पेयजल के लिए बोरिंग को सुधारने को मिस्त्री को बुलाया गया। पानी का टैंकर मंगाया गया। सफाई के लिए झाड़ू भी मंगाए गए। ऐसे में उम्मीद है कि कॉलेज में छात्राओं के पठन-पाठन के लिए माहौल बन सकेगा। छात्राओं का आरोप है कि शिकायत करने पर उन्हें टीसी कटाकर स्कूल छोडऩे की धमकी दी जाती थी।

प्रबंधन के निशाने पर शिक्षिकाएं:

छात्राओं के विरोध प्रदर्शन में कॉलेज प्रबंध तंत्र शिक्षिकाओं पर कार्रवाई की तैयारी में है। साउथ मलाका स्थित शिक्षक भïवन में उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ प्रयागराज की बैठक में शिक्षक विधायक सुरेश कुमार त्रिपाठी ने कहा कि छात्राओं को मूलभूत सुविधाओं से वंचित किया जाना बेहद निंदनीय है। इस प्रकरण में शिक्षिकाओं को निशाने पर लेना गलत है। बैठक का संचालन जिला मंत्री अनुज कुमार पांडेय ने किया। तय किया गया कि बुधवार को तीन बजे शिक्षक भवन में जिला कार्यकारिणी की बैठक में इस मसले में आंदोलन पर चर्चा होगी। बैठक में महेश दत्त शर्मा, कुंज बिहारी मिश्रा, रमेश चंद्र शुक्ला, अनुज कुमार पांडेय, जगदीश प्रसाद, शिव शंकर यादव, रविंद्र त्रिपाठी, सविता मिश्रा, डॉ. मनोज मिश्रा आदि मौजूद रहे।

loading...
error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com