सीमा पर तनाव के बीच भारत और पाकिस्‍तान के दलों के बीच करतारपुर कॉरिडोर पर वार्ता हुई

भारत और पाकिस्‍तान के बीच बनने वाले श्री करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण के मुद्दे पर भारत और पा‍किस्‍तान के दलों के बीच वार्ता समाप्‍त हो गई है। अटारी बॉर्डर पर आयोजित इस वार्ता में दोनों पक्षों ने श्री करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण और अन्‍य पहलुओं पर बातचीत की। पाकिस्‍तानी प्रतिनिधिमंडल वार्ता के लिए सुबह वाघा बॉर्डर से होकर यहां पहुंचा था। दोनों पक्षों  के बीच अगली वार्ता अब 2 अप्रैल को वाघा बॉर्डर पर होगी।

भारतीय दल का नेतृत्‍व गृह मंत्रालय में संयुक्‍त सचिव एससीएल दास और पाकिस्‍तानी दल का नेतृत्‍व पाक विदेश मंत्रालय डीजी डॉ. मोहम्‍मद फैसल ने किया। वार्ता खत्‍म होने के बाद दोनों पक्षों ने संयुक्त वक्तव्य जारी किया। संयुक्‍त बयान में कहा गया कि दोनों पक्षों ने प्रस्तावित श्री करतारपुर कॉरिडोर के मार्ग और अन्य विवरणों पर चर्चा की। इसमें तकनीकी विशेषज्ञ भी मौजूद थे। वार्ता में काॅरिडोर को लेकर विशेषज्ञ स्तर की चर्चा की गई। इस दौरान फैसला किया गया कि 2 अप्रैल 2019 को वाघा में अगली बैठक आयोजित करने पर सहमति हुई।

संयुक्त वक्तव्य मेें कहा गया है कि दोनों पक्षों ने कॉरिडाेर के लिए प्रस्तावित समझौते के विभिन्न पहलुओं और प्रावधानों पर विस्तृत और रचनात्मक चर्चा की। इसके साथ करतारपुर साहिब कॉरिडोर का तेजी से संचालन करने की दिशा में काम करने पर सहमति व्यक्त की। इसके साथ ही बैठक में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए तौर-तरीकों और ड्राफ्ट समझौते पर चर्चा की गई। बयान में काि गया है कि इस पहली बैठक सौहार्दपूर्ण वातावरण में बातचीत हुई।

दोनों पक्षों के बीच कारिडोर के निर्माण, उसकी डिजाइन और श्री करतार पुर में श्रद्धालुओं के दर्शन की व्‍यवस्‍था को लेकर वार्ता हुई। इसमें प्रतिदिन श्री करतारपुर जाने वाले श्रद्धालुओं की संख्‍या, श्री करतारपुर गुरुद्वारा में रहने की अवधि और वीजा संबंधी मुद्दों पर बातचीत हुई।

बता दें कि भारत की ओर से कतारपुर कॉरिडोर प‍रिसर के बिल्‍डिंग डिजाइन को पहले ही मंजूरी दे दी गई है। वार्ता में कॉरिडोर के निर्माण के विभिन्‍न पहलुओं सहित श्रद्धालुओं के लिए व्‍यवस्‍थाओं के बारे में भी चर्चा हुई। बताया जाता है कि दोनों पक्ष एक-दूसरे को काॅरिडोर के निर्माण की दिशा में अब तक हुए कार्य के बारे में भी जानकारी दी। वार्ता आइसीपी अटारी में हुई। बैठक आइसीपी चेक पोस्ट में बीएसएफ कांफ्रेंस हाल में हुई।

वाघा अटारी बॉर्डर पर पहुंचा पाकिस्‍तानी प्रतिनिधिमंडल।

डेरा बाबा नानक में एक हफ्ते में शुरू होगा करतारपुर कॉरिडोर का काम

उधर श्री करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शनों के लिए भारत-पाकिस्तान के बीच बनने वाले कॉरिडोर के लिए जमीन का जायजा लेने लैंड पोर्ट अथॉरिटी दिल्ली की टीम बुधवार शाम डेरा बाबा नानक पहुंची। टीम में अधिकारी अखिलेश यादव, परमजीत ङ्क्षसह नागरा व एसडीएम गुरसिमरन सिंह शामिल थे। टीम ने बताया कि एक हफ्ते में कॉरिडोर का काम बड़े स्तर पर शुरू कर दिया जाएगा और 11 नवंबर तक कॉरिडोर का काम पूरा कर संगत को समर्पित कर दिया जाएगा।

टीम ने करतारपुर कॉरिडोर के पास श्रद्धालुओं के लिए बनने वाले विश्राम गृह के लिए चयनित जमीन भी देखी। लैंड पोर्ट अथॉरिटी की टीम वीरवार को अटारी बॉर्डर पर करतारपुर कॉरिडोर के संबंध में भारत-पाक अधिकारियों के बीच होने वाली बैठक में भी भाग लेगी।

पटवारी की कोठी बचाने के लिए कॉरिडोर के पिलर 20 फीट खिसकाए, किसानों ने वापस लगाए
कॉरिडोर के लिए चयनित जमीन पर लगाए गए पिलरों को कुछ लोगों ने बदल कर 20 फीट दूर खिसका दिया। गांव पखोके के किसानों को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने पिलरों को पुरानी जगह पर लगा दिया। गांव पखोके के किसान सूबासिंह, जोगिंदर सिंह, जैमल सिंह, पलविंदर सिंह, मलकीत सिंह, संत सिंह और कुलवंत सिंह ने बताया कि एक पटवारी की कोठी बचाने के लिए पिलरों को 20 फीट दूर संत सरोवर गुरुद्वारा साहिब की ओर खिसका दिया गया था। अब पिलरों को दोबारा पुरानी जगह पर लगा दिया है। वहीं एसडीएम गुरसिमरन ङ्क्षसह ढिल्लों का कहना है कि मामला उनके ध्यान में आया है। जमीन के जिन नंबरों की अधिसूचना जारी हुई है, कॉरिडोर वहीं पर बनाया जाएगा। 

loading...
error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com