Breaking News

ब्लॉग

रुक्मी – ३: बलराम से विवाद और मृत्यु

पिछले लेख में आपने पढ़ा कि किस प्रकार रुक्मी अपने बल का दम्भ भरते हुए पांडव और कौरव पक्ष की सहायता करने के लिए जाता है किन्तु उसके घमंड के कारण युधिष्ठिर और दुर्योधन दोनों उसकी सहायता लेने से मना कर देते हैं। इस प्रकार बलराम के अतिरिक्त वो आर्यावर्त का …

Read More »

कालयवन – १: ब्राह्मणपुत्र राक्षस बना

कालयवन महाभारत काल का एक योद्धा था जो यवनों का राजा था। नहुष के पुत्र ययाति के ५ पुत्र हुए और उन्ही से समस्त राजवंश चले। किन्तु पुरु को छोड़ कर ययाति ने किसी को भी एकछत्र सम्राट बनने का अधिकार नहीं दिया। उन्ही के एक पुत्र और पुरु के …

Read More »

रुक्मी – १: कृष्ण से बैर, युद्ध और पराजय

रुक्मी महाभारत का एक प्रसिद्ध पात्र है जो विदर्भ के राजा महाराज भीष्मक का सबसे बड़ा पुत्र था। महाराज भीष्मक के रुक्मी के अतिरिक्त तीन अन्य पुत्र और रुक्मिणी नामक एक पुत्री थी। रुक्मी युवराज था और विदर्भ की राजधानी कुण्डिनपुर में अपने पिता की क्षत्रछाया में राज-काज संभालता था। बचपन …

Read More »

लंका कैसे काली पड़ी?

रामायण का ‘लंका दहन’ प्रसंग उसके सर्वाधिक प्रसिद्ध प्रसंगों में से एक है। आम धारणा है कि जब रावण ने महाबली हनुमान को बंदी बना कर उनकी पूछ में आग लगा दी तब उसी जलती हुई पूछ से हनुमान ने पूरी लंका में आग लगा दी। इससे पूरी लंका खण्डहर …

Read More »

कालयवन – २

पिछले लेख में आपने पढ़ा कि किसी प्रकार ऋषि शेशिरायण ने अपने अपमान का प्रतिशोध लेने के लिए महादेव की तपस्या कर उन्हें प्रसन्न किया। उनकी कृपा से उन्हें एक ऐसे पुत्र की प्राप्ति हुई जो चंद्रवंशी या सूर्यवंशी द्वारा किसी भी अस्त्र अथवा शस्त्र से नहीं मारा जा सकता था। …

Read More »

भगवान शिव के अवतार

भगवान विष्णु के अवतार के बारे में तो सभी जानते हैं लेकिन भगवान शिव के अवतारों के बारे में बहुत कम लोग जानते होंगे। भगवान विष्णु के अवतारों के बारे में विस्तार से यहाँ पड़ें। आज हम आपको भगवान शिव के अवतारों के बारे में बताते हैं। शिव महापुराण में भगवान शिव के …

Read More »

कालयवन – १

कालयवन महाभारत काल का एक योद्धा था जो यवनों का राजा था। नहुष के पुत्र ययाति के ५ पुत्र हुए और उन्ही से समस्त राजवंश चले। किन्तु पुरु को छोड़ कर ययाति ने किसी को भी एकछत्र सम्राट बनने का अधिकार नहीं दिया। उन्ही के एक पुत्र और पुरु के …

Read More »

दक्ष प्रजापति की पुत्रियों और उनके पतियों के नाम

पुराणों के अनुसार दक्ष प्रजापति परमपिता ब्रह्मा के पुत्र थे जो उनके दाहिने पैर के अंगूठे से उत्पन्न हुए थे। प्रजापति दक्ष की दो पत्नियाँ थी – प्रसूति और वीरणी। प्रसूति से दक्ष की चौबीस कन्याएँ थीं और वीरणी से साठ कन्याएँ। उन सभी का वर्णन नीचे दिया है और साथ …

Read More »

लंका कैसे काली पड़ी?

रामायण का ‘लंका दहन’ प्रसंग उसके सर्वाधिक प्रसिद्ध प्रसंगों में से एक है। आम धारणा है कि जब रावण ने महाबली हनुमान को बंदी बना कर उनकी पूछ में आग लगा दी तब उसी जलती हुई पूछ से हनुमान ने पूरी लंका में आग लगा दी। इससे पूरी लंका खण्डहर …

Read More »

दशावतार

हिन्दू धर्म में अवतारों की बड़ी महत्ता है। वैसे तो कई देवताओं ने अवतार लिए किन्तु भगवान विष्णु के अवतार का महत्त्व सबसे अधिक माना जाता है। भगवान शिव के भी कई अवतार हैं किन्तु उनके लिए ज्योतिर्लिंगों को अवतार पर प्रधानता दी जाती है। भगवान विष्णु के दस अवतारों …

Read More »
error: Content is protected !!

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com