#MeToo अभियान से जुड़ीं महिलाएं बनी टाइम की ‘पर्सन ऑफ द ईयर’

न्यूयार्क|अतीत में हुए यौन शोषण पर चुप्‍पी तोड़ने वाली महिलाएं प्रतिष्ठित ‘टाइम’ मैगजीन की ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ में शुमार की गई हैं. पत्रिका ने इन्‍हें ‘द साइलेंस ब्रेकर्स’ यानी चुप्पी तोड़ने वाली बताया है. इनकी पहल से ही अमेरिकी समाज में यौन उत्‍पीड़न, यौन हमलों और यौन दुर्व्‍यवहार की व्‍यापकता का खुलासा हुआ था. यौन उत्पीड़न को लेकर मुहिम की शुरुआत #MeToo से की गई थी. हॉलीवुड की कई मशहूर अभिनेत्रियों ने इस अभियान के तहत प्रसिद्ध हॉलीवुड निर्माता-निर्देशक हार्वे वेंस्‍टीन पर यौन उत्पीड़न के गंभीर आरोप लगाए थे. इसमें सामान्‍य महिलाएं भी शामिल हुईं और उन्‍होंने अतीत में अपने साथ हुए यौन दुर्व्‍यवहारों और कड़वे अनुभवों को सामने रखा.

टाइम पत्रिका ने बुधवार को ‘टूडे शो’ कार्यक्रम के दौरान पर्सन ऑफ द ईयर-2017 की घोषणा की. चुप्‍पी तोड़ने वाली इन महिलाओं को ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ की सूची में शुमार करने वाली ‘टाइम’ पत्रिका का कहना है कि यह हैशटैग (#MeToo) कहानी का एक हिस्साभर है. यौन शोषण के कटु अनुभव साझा करने वालों में कुछ पुरुष भी शामिल हैं. पत्रिका के प्रधान संपादक एडवर्ड फेलसेनथाल का कहना है, ‘यह तेजी से होता बदलाव है, जिसकी शुरुआत सैकड़ों महिलाओं और कुछ पुरुषों के व्यक्तिगत साहस से हुई.’

कैलिफोर्निया: 65 हजार एकड़ जंगल में लगी भयानक आग, 160 इमारतें हुईं खाक

हैशटैग MeToo नाम से शुरू हुए इस अभियान ने हॉलीवुड के साथ-साथ बड़े कारोबार, राजनीति, मीडिया जगत के कई दिग्‍ग्‍जों की भी पोल खोलकर रख दी और उनके असली चेहरों को उजागर किया. पत्रिका ने अपने कवर पर अलग-अलग पृष्ठभूमि की महिलाओं को दिखाकर हर जगह होने वाले यौन उत्पीड़न की झलक पेश की.

पत्रिका ने अपने कवर पृष्‍ठ पर हॉलीवुड अभिनेत्री एश्‍ले जेड की तस्‍वीर प्रकाशित की है, जिन्‍होंने वेंस्‍टीन पर सबसे पहले आरोप लगाए थे. इसके बाद कई अन्‍य अभिनेत्रियों ने भी उनके खिलाफ यौन शोषण के आरोप लगाए. हालांकि उन्‍होंने खुद पर लगे आरोपों से इनकार किया. इसमें दूसरी तस्‍वीर पॉप गायिका टेलर स्विफ्ट की है, जिन्‍होंने एक पूर्व डीजे पर उन्‍हें गलत तरीके से पकड़ने का आरोप लगाया था और इस मामले में उन्‍होंने उनके खिलाफ मुकदमा भी जीता. तस्‍वीर में एक अन्‍य महिला मेक्सिको की हैं. इसमें उबर की पूर्व इंजीनियर 26 साल की सुसैन फोवलेर भी हैं, जिनके आरोपों के कारण उबर के सीईओ को अपने पद से हटना पड़ा था. तस्‍वीर में कैलिफोर्निया की एक महिला को भी शामिल किया गया है. इस अभियान से जुड़े कई अन्‍य लोग भी हैं, जिन्‍हें पत्रिका के आवरण पृष्‍ठ पर तो जगह नहीं मिली, लेकिन वे इस खिताब के हकदार हैं.

इंडोनेशिया के सेल्फी वाले बंदर ने हासिल की ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ में जगह

वहीं, अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप टाइम पत्रिका की ‘पर्सन ऑफ द ईयर’ की दौड़ में दूसरे स्‍थान पर रहे. पिछले साल उन्हें यह खिताब मिला था. चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग ट्रंप के बाद तीसरे स्‍थान पर हैं. ‘टाइम’ पत्रिका ने यह खिताब देने की शुरुआत 1927 में की थी. इसमें उन लोगों को चुना जाता है, जिन्होंने साल में सबसे अधिक प्रभाव डाला हो.

-साभार टाइम्स नाउ

loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com